साइन-इन करें

एनआईएमएफ की कुछ स्कीम में नए सब्सक्रिप्शन को सस्पेंशन करने के लिए, कृपया देखें एडेंडम

 कंटेंट एडिटर

डेट म्यूचुअल फंड खरीदते समय मैं किन लाइफ गोल्स पर विचार कर सकता/सकती हूं?

आपके जीवन के चरण के आधार पर आपके लाइफ गोल्स या जीवन के लक्ष्य अलग-अलग हो सकते हैं. अगर आप 20s की आयु के युवा प्रोफेशनल हैं, तो आपके लॉन्ग-टर्म लक्ष्यों को अभी तक स्पष्ट रूप से परिभाषित नहीं किया जा सकता है, लेकिन आपके पास बहुत सारे शॉर्ट-टर्म लक्ष्य हो सकते हैं. दूसरी ओर, आपके 30s के अंत में, आपके प्लान में काफी बदलाव आ जाता है, क्योंकि आपकी देनदारियां बढ़ जाती हैं और आपके लॉन्ग टर्म लक्ष्य अधिक महत्वपूर्ण हो जाते हैं. डेट फंड में निवेश करने से आपको जीवन के हर चरण और लगभग किसी भी प्रकार के लक्ष्य के लिए लाभ मिल सकता है.



Here


डेट फंड का उपयोग आदर्श रूप से छोटी और मध्यम अवधि के लक्ष्यों के लिए किया जाता है, लेकिन जोखिम से बचने वाले निवेशक लंबी अवधि के या लॉन्ग टर्म निवेश के लिए भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. हो सकता है कि वे इक्विटी म्यूचुअल फंड के बराबर रिटर्न न बना पाएं, लेकिन अगर उच्च रिटर्न प्राथमिकता नहीं है, तो डेट म्यूचुअल फंड अपेक्षाकृत सुरक्षित निवेश विकल्प हो सकते हैं. डेट फंड में निवेश करने के दो तरीके हैं सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) और एकमुश्त. जब आप एसआईपी के माध्यम से निवेश करते हैं, तो आप डेट फंड में नियमित अंतराल पर पहले से निर्धारित राशि निवेश करते हैं; जबकि, जब आप एकमुश्त राशि वाले तरीके से निवेश करते हैं, तो आप फंड में एक बार में एकमुश्त राशि निवेश करते हैं.

डेट म्यूचुअल फंड की आपकी पसंद आपके लक्ष्यों के आधार पर निर्धारित होनी चाहिए और इस पर इस बात का कोई प्रभाव नहीं पड़ना चाहिए कि दूसरे निवेशक एकमुश्त निवेश और बेहतर रिटर्न के बारे में डेट म्यूचुअल फंड के लिए क्या कहते हैं. आपको डेट फंड कैलकुलेटर की मदद से अपनी कस्टमाइज़्ड आवश्यकताओं के आधार पर अपना निर्णय लेना चाहिए.

आइए देखते हैं कि अपने विभिन्न लक्ष्यों के अनुसार डेट फंड में प्रभावी रूप से निवेश कैसे करें, आप इससे संबंधित डेट फंड के प्रकार के बारे में अधिक पढ़ सकते हैं

बहुत शॉर्ट टर्म लक्ष्य (< 1 वर्ष)
अतिरिक्त पैसा होने के कारण शॉर्ट टर्म के लिए इसे कहीं निवेश करना या कुछ समय बाद बच्चे की फीस के रूप में भुगतान की जाने वाली रकम को निवेश करना आदि इस कैटेगरी के तहत आते हैं. इन लक्ष्यों के लिए किए जाने वाले निवेश में आप अधिक जोखिम लेने की स्थिति में नहीं होते हैं, और इसलिए, लिक्विड फंड, ओवरनाइट फंड, अल्ट्रा शॉर्ट ड्यूरेशन फंड या मनी मार्केट फंड अधिक आदर्श हो सकते हैं. इन फंड से प्राप्त रिटर्न अपेक्षाकृत अधिक स्थिर होते हैं और इनमें उच्च लिक्विडिटी मिल सकती है.

शॉर्ट-टर्म लक्ष्य (1-3 वर्ष)
एक नई कार खरीदना, आपके घर के लिए डाउन पेमेंट करना, विदेश में छुट्टियां मनाने का प्लान करना आदि वे शॉर्ट टर्म लक्ष्य हैं जिनकी हम यहां बात कर रहे हैं. आप शॉर्ट ड्यूरेशन डेट फंड, कॉर्पोरेट बॉन्ड फंड या बैंकिंग और पीएसयू फंड में निवेश कर सकते हैं. इन फंड में उपरोक्त कैटेगरी की तुलना में अधिक रिटर्न देने की क्षमता होती है. आप डेट फंड के साथ शॉर्ट टर्म लक्ष्यों को प्राप्त करने के बारे में अधिक पढ़ सकते हैं, Here

मध्यम-अवधि के लक्ष्य (3-5 वर्ष)
विवाह करना, एमरजेंसी फंड बनाना या फिर परिवार में किसी बड़े फंक्शन के लिए तैयारी करना आदि मध्यम अवधि के लक्ष्यों के कुछ उदाहरण हैं. यहां, चूंकि निवेश की अवधि थोड़ी अधिक होती है, इसलिए आप थोड़ा बहुत जोखिम अधिक ले सकते हैं (अगर आपकी जोखिम लेने की क्षमता अनुमति देती है, और अगर ऐसा है, तो डायनामिक बॉन्ड फंड और मीडियम ड्यूरेशन डेट फंड आपके लिए अच्छे विकल्प साबित हो सकते हैं. डायनामिक बॉन्ड फंड विभिन्न सिक्योरिटीज़ में निवेश करता है और मार्केट की स्थिति के अनुसार इसका एलोकेशन बदलता रहता है. 3 वर्ष या उससे अधिक की अवधि तक निवेशित रहना चाह रहे निवेशक के लिए सरकारी सिक्योरिटीज़ में निवेश करने वाले गिल्ट फंड भी उपयोगी होते हैं.

लॉन्ग-टर्म लक्ष्य (5-7, >7 वर्ष)
बच्चों की शिक्षा, विवाह आदि जैसे लक्ष्य इस श्रेणी में आते हैं. आप लॉन्ग ड्यूरेशन डेट फंड में भी निवेश कर सकते हैं. ये फंड लंबी अवधि के फंड होने के कारण ब्याज दरों में बदलाव के लिए अधिक संवेदनशील होते हैं, इसलिए इनके मामले में जोखिम अधिक होता है. डायनामिक बॉन्ड फंड भी लक्ष्यों की इस श्रेणी में एक लोकप्रिय फंड है.

रिटायरमेंट के बाद

रिटायरमेंट के बाद, आपकी इनकम का स्रोत बंद हो जाता है, इसलिए, जोखिम लेने की क्षमता अक्सर कम हो जाती है. इस प्रकार, निवेशक अपने मेहनत से कमाए गए पैसों को बनाए रखने के लिए अपेक्षाकृत सुरक्षित विकल्प खोजते हैं. बहुत से निवेशक अपना निवेश इक्विटी म्यूचुअल फंड से डेट म्यूचुअल फंड में ट्रांसफर करना पसंद कर सकते हैं. दूसरा कारण डेट फंड से सिस्टमेटिक निकासी प्लान (एसडब्ल्यूपी) शुरू करना हो सकता है. इनकम बंद हो जाने के बाद, आपको अपनी सेविंग/निवेश से पैसे निकालने की आवश्यकता होगी और एसडब्ल्यूपी आपको अपने रोजमर्रा के खर्चों के लिए नियमित इनकम प्रदान करने में मदद करेगा.

इक्विटी में निवेश के लिए रखी गई एकमुश्त राशि को कुछ समय के लिए पार्क करना

Another very common reason for investment in debt funds is to finally invest the funds in equity mutual funds. If you are planning to invest a lump sum amount and need to time the market, then you can park your funds in either a liquid fund or an overnight fund till the time is right to invest in equity; you can start a Systematic Transfer Plan (STP) from your debt fund to the equity fund. This allays the need to time the market. A debt mutual fund calculator always comes in handy in planning such investments.

It might be relevant here to mention that you can’t really match another investor’s debt fund portfolio because every investor is unique in his/her combination of goals, risk appetites, and investment horizon. Someone’s short-term goal may be your mid-term goal; likewise, someone’s best debt fund may not work for you at all. Hence, it is always better to evaluate your needs & requirements and decide your ideal portfolio rather than following someone else’s.

यहां दी गई जानकारी सामान्य तौर पर केवल पढ़ने के लिए है. यहां व्यक्त किए गए विचार केवल राय हैं. इसलिए, इन्हें पाठकों के लिए दिशानिर्देश, सुझाव या प्रोफेशनल मार्गदर्शक के रूप में नहीं माना जा सकता है. ये डॉक्यूमेंट सार्वजनिक रूप से उपलब्ध जानकारी, आंतरिक रूप से तैयार किए गए डेटा और अन्य विश्वसनीय स्रोतों के आधार पर तैयार किए गए हैं. स्पॉन्सर, इन्वेस्टमेंट मैनेजर, ट्रस्टी या उनका कोई भी डायरेक्टर, कर्मचारी, सहयोगी या प्रतिनिधि ("संस्थाएं और उनके सहयोगी") ऐसी किसी जानकारी के सटीक होने, पूरी होने, पर्याप्त होने और भरोसेमंद होने की कोई ज़िम्मेदारी या वारंटी नहीं नहीं लेते हैं. यह जानकारी पाने वालों को सलाह दी जाती है कि वे अपने विश्लेषण, व्याख्या और जांच पर ही भरोसा करें. पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे इन्वेस्टमेंट से जुड़ा निर्णय सोच-समझकर लेने के लिए, किसी स्वतंत्र प्रोफेशनल की सलाह लें. इस कॉन्टेंट को तैयार करने या जारी करने में शामिल व्यक्तियों के साथ-साथ संस्थाएं और उनके सहयोगी किसी भी ऐसे प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष, विशेष, आकस्मिक, परिणामी, दंडात्मक या किसी अन्य नुकसान के लिए ज़िम्मेदार नहीं होंगे. इस कॉन्टेंट में निहित जानकारी से होने वाले लाभ के नुकसान के, कारण भी शामिल हैं. केवल प्राप्तकर्ता, इस डॉक्यूमेंट के आधार पर लिए गए किसी भी निर्णय के लिए पूरी तरह से ज़िम्मेदार होंगे.

म्यूचुअल फंड इन्वेस्टमेंट मार्केट जोखिमों के अधीन हैं, स्कीम से संबंधित सभी डॉक्यूमेंट को ध्यान से पढ़ें

ऐप डाउनलोड करें